नया सीखेशेयर मार्केट

New Margin क्या है? आइये जाने SEBI के इस नये नियम के बारे में

What is New Margin: यदि आप शेयर मार्केट में इन्वेस्ट (invest) और ट्रेड (trade) करते हैं तो सेबी (SEBI – Security Exchange Board of India) के न्यू मार्जिन( New Margin)  के इस नए नियम के बारे में जानना बेहद जरूरी है, जिससे इन्वेस्ट करने के दौरान जोखिम को कम किया जा सके। न्यू मार्जिन के अनुसार स्टॉक ब्रोकर (Stock Broker) द्वारा अपने क्लाइंट को ट्रेडिंग (trading) के लिए उपलब्ध करवाया जाता है, जिसे अब सेबी (SEBI) ने 25% 50%, 75% और 100% के कुल 4 चरणों में खत्म करने का नियम बनाया है। यानी कि अब इन्वेस्ट (invest) करने के लिए खुद का पैसा अपने डिमैट अकाउंट (Demat Account) में रखना अनिवार्य होगा नही तो आप शेयर मार्केट (share market) में trade नही कर सकेंगे।

 अब शेयर मार्केट में ट्रेड करने के लिए खुद का मार्जिन  खुद के डिमैट अकाउंट में होना जरूरी है। 

ऐसे में यह Retail Trader  के लिए एक चुनौती भरा काम साबित हो सकता है, क्योंकि रिटेल ट्रेडर के पास पर्याप्त मात्रा में फंड (Fund) जुटा पाना आसान काम नहीं होता है। इसे हम एक उदाहरण से समझते हैं।

 यदि आपके पास ₹1000 है तब पहले स्टॉक ब्रोकर आपको शेयर मार्केट में ट्रेड करने के लिए 20 गुना मार्जिन प्रोवाइड कर देते थे। अर्थात यदि आपके पास ₹1000 है तो आप ₹20,000 तक की trading पहले कर सकते थे। लेकिन अब सेबी के इस न्यू मार्जिन रूल (New margin rule) आ जाने से ऐसा संभव नही होगा। यदि आप शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करना चाहते हैं तो जितने शेयर sell करेंगे उतना फंड आपके डिमैट अकाउंट में होना अनिवार्य रहेगा।

मार्जिन (Margin) क्या है ? 

शेयर मार्केट में मार्जिन (Margin) का मतलब उधार से लिया जाता है। यह मार्जिन स्टॉक ब्रोकर द्वारा अपने क्लाइंट को ट्रेडिंग करने के लिए दिया जाता है, ताकि ज्यादा संख्या में ट्रेडर्स trade कर पाए और स्टॉक ब्रोकर्स क्लाइंट से ज्यादा से ज्यादा रेवेन्यू (revenue) का लाभ ले सके। यह Margin 5 गुना, 10 गुना या फिर 20 गुना तक हो सकता है। यह इस बात पर निर्भर करता है कि ब्रोकर अपने क्लाइंट से कितने गुना तक मार्जिन देता है।

इंट्राडे के लिए New Peak Margin Rule – 

पहले जब सेबी न्यू पिक मार्जिन रूल नहीं बनाया था तब आप पहले से खरीदे गए शेयर को किसी भी स्टॉक होल्डिंग को बेंचते थे तो पूरा amount अगले दिन आप के Demat Account में दिखता था। 

लेकिन इस New Peak Margin Rule के लागू हो जाने के बाद अब ऐसा नही होगा। अब आप जो भी होल्डिंग सेल करेंगे उसका 80% आपके डिमैट अकाउंट में दिखाई देगा यानी कि आप 80% धनराशि को भी उस दिन इंट्राडे में इस्तेमाल कर पाएंगे और शेष 20% धनराशि (Amount) को अगले दिन आपके डिमैट अकाउंट में दिखाना रहेगा।

लेकिन नये नियम के लागू हो जाने से अब इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए स्टॉक ब्रोकर द्वारा किसी भी प्रकार का मार्जिन उपलब्ध नहीं करवाया जाएगा। ऐसे में इंट्राडे ट्रेडिंग करने के लिए आपके अकाउंट में पूरा फंड रखना जरूरी होगा। इसके बिना आप ट्रेडिंग नहीं कर पाएंगे।लेकिन यदि आप उसी दिन ऑप्शन और फ्यूचर (option and future) में ट्रेडिंग करते हैं तो उसी दिन होल्डिंग की कुल मात्रा का 60% मार्जिन इस्तेमाल कर पाएंगे।

यह भी जाने : खुद से Demat Account कैसे खोले, Step by Step पूरी जानकारी

 

Archana Yadav

मुझे नए नए टॉपिक्स में लेख लिखना पसंद हें, मेरे लेख पढ़ने के लिए शुक्रिया आपको केसा लगा कॉमेंट करके ज़रूर बताए.

Related Articles

Back to top button