शेयर मार्केट

आइये जानते है शेयर ट्रेडिंग क्या है?| What is Share Trading in Hindi

Story Highlights
  • शेयर खरीदने का अर्थ
  • शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव कैसे आता है
  • कैसे करें शेयर बाजार में निवेश

शेयर ट्रेडिंग क्या है?| What is Share Trading in Hindi : शेयर का मतलब होता है ‘हिस्सा’ और ट्रेडिंग का मतलब होता है ‘व्यापार करना’। आज के दौर में लोग कम समय में अधिक लाभ कमाने के लिए शेयर बाजार में निवेश करते हैं। शेयर के व्यापार को करने के लिए शेयर मार्केट होता है, जहां पर कई तरह की कंपनियां सूचीबद्ध होती है और उनके शेयर को खरीदा और बेचा जाता है। इस तरह से हम कह सकते हैं कि शेयर बाजार जिसे हम स्टॉक मार्केट (stock market) के नाम से भी जानते हैं, वह जगह होती है जहां पर सूचीबद्ध कंपनियों में हिस्सेदारी को खरीदा और बेचा जाता है। भारत में 2 शेयर बाजार प्रसिद्ध है बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE)। इन दोनों ही मार्केट में किसी लिस्टेड कंपनी के शेयर को ब्रोकर के माध्यम से लोग खरीदते और बेचते हैं। शेयर बाजार में म्युचुअल फंड,  डेरिवेटिव बाजार का भी व्यापार किया जाता है। 

शेयर मार्केट में शेयर ट्रेडिंग ज्यादातर लोग कम समय में अधिक रिटर्न की उम्मीद से अपने पैसों का निवेश करते हैं। इसमें घरेलू नागरिक के साथ-साथ विदेशी निवेशक भी FDI और FII के माध्यम से निवेश कर सकते हैं।

किसी भी लिस्टेड कंपनी के शेयर का मूल्य बीएसई/एनएसई में दर्ज होता है और सभी सूचीबद्ध कंपनियों के शेयर के मूल्य उनके लाभ कमाने की क्षमता के अनुसार समय-समय पर घटना और बढ़ता है। अभी शेयर बाजार सेबी – SEBI (भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड) के द्वारा नियंत्रित किए जाते हैं। 

कोई भी कंपनी शेयर बाजार में लिस्ट होकर SEBI के अनुमति के बाद ही अपना आईपीओ (IPO) जारी करती है।

शेयर खरीदने का अर्थ

मान लीजिए कोई व्यक्ति नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) में सूचीबद्ध किसी कंपनी ने अपनी कंपनी के कुल एक लाख शेयर (हिस्से) जारी किए हैं। कंपनी के प्रस्ताव के अनुसार कोई भी व्यक्ति जितने शेयर खरीदता है, वह व्यक्ति उतने शेयर के बराबर कंपनी में हिस्सेदार हो जाता है। अर्थात उस कंपनी में व्यक्ति के शेयर के बराबर उसका मालिकाना हक हो जाता है और वह जब चाहे अपने हिस्से के शेयर को बेच सकता है।

 

Conclusion Of The Contract, Handshake, Trade, Business

कोई भी कंपनी शेयर जारी करती है तो यह उस व्यक्ति या समूह पर निर्भर करता है कि वह मार्केट में कितनी शेयर जारी करेगी। शेयर मार्केट से शेयर खरीदने या फिर बेचने के लिए ब्रोकर की मदद लेनी पड़ती है। ब्रोकर शेयर को खरीदने और बेचने के लिए अपने ग्राहकों से कुछ फीस के रूप में कमीशन चार्ज करता है।

शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव कैसे आता है?

कोई सी भी कंपनी के कामकाज, आर्डर मिलने या फिर छिन जाने, कंपनी के नतीजे बेहतर बने रहने, मुनाफा बढ़ने या घटने जैसे जानकारियों के आधार पर कंपनी का मूल्यांकन किया जाता है। शेयर मार्केट में लिस्टेड कंपनी रोज व्यापार करती रहती है। ऐसे में रोज कुछ न कुछ बदलाव होता रहता है। मूल्यांकन के आधार पर मांग घटने बढ़ने से शेयर की कीमतों में उतार-चढ़ाव होता रहता है।

 मालूम हो कि दुनिया के सबसे अमीर व्यक्तियों की लिस्ट में शामिल वारेन बफेट शेयर मार्केट में शेयर ट्रेडिंग करके  निवेश करके ही अरबपतियों की सूची में शामिल होने हैं।

कैसे करें शेयर बाजार में निवेश? 

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए किसी ब्रोकर की मदद से आप शेयर खरीद सकते है। इसके लिए आपको दो तरह के अकाउंट खुलवाने की जरूरत होता है। पहला डीमैट अकाउंट, दूसरा बैंक अकाउंट।

कोई भी शेयर डीमैट अकाउंट के माध्यम से ही खरीदें और बेचे जाते हैं।

शेयर मार्केट में ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है? इसके बारे में विस्तार से जानने के लिए जाने के लिए पढ़ें : आइये जानते है ट्रेडिंग क्या है? ट्रेडिंग के प्रकार के बारे में सब कुछ | What is Trading and its type in Hindi

Archana Yadav

मुझे नए नए टॉपिक्स में लेख लिखना पसंद हें, मेरे लेख पढ़ने के लिए शुक्रिया आपको केसा लगा कॉमेंट करके ज़रूर बताए.

Related Articles

Back to top button