शेयर मार्केट

आइये जानते है ट्रेडिंग क्या है? ट्रेडिंग के प्रकार के बारे में सब कुछ | What is Trading and its type in Hindi

Story Highlights
  • ट्रेडिंग क्या है
  • ट्रेडिंग के प्रकार (Types of Trading)
  • Intraday Trading
  •  Scalping Trading
  • Swing Trading

ट्रेडिंग क्या है? (What is Trading in Hindi): ट्रेडिंग का मतलब किसी भी वस्तु या सेवा को कम दाम में खरीदना और बाद में उस वस्तु या सेवा के दाम बढ़ जाने पर बेच देना होता है। ट्रेडिंग करने का मुख्य मकसद किसी भी वस्तु या सेवा को खरीद कर कम समय में ज्यादा मुनाफा कमाना रहता है हिंदी भाषा में ट्रेडिंग का अर्थ “व्यापार” है। आसान भाषा में इसे कहे तो ट्रेडिंग का मतलब खरीदने और बेचने का व्यापार है।

आज बाजार में लोग कम समय में अधिक मुनाफा कमाने के लिए ट्रेडिंग करते हैं। ट्रेडिंग कई प्रकार की चीजों पर की जा सकती है। लेकिन प्रमुख रूप से ट्रेडिंग में सबसे ज्यादा लोग शेयर पर ट्रेडिंग करते हुए देखे जाते हैं। शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करके लोग एक दिन में लाखो हजारों रुपए कमा सकते हैं। ट्रेडिंग को सिर्फ शेयर मार्केट से ही संबंधित नहीं किया जाता बल्कि यह व्यापार के हर क्षेत्र में लागू होती है।

जैसे कि यदि किसी सोसाइटी में कोई व्यक्ति सब्जी बेचने आता है तो वह व्यक्ति भी सब्जी की ट्रेडिंग करने का ही व्यापार कर रहा है। क्योंकि वह बाजार से थोक में कम कीमत पर सब्जी खरीदता है और सोसाइटी में लाकर अधिक कीमत पर उन्हें बेच देता है। इससे सोसायटी के लोगों को घर पर ही सब्जियां मिल जाती है और सब्जी बेचने वाले को भी कमाई भी हो जाती है। तो इस तरह से हम कह सकते हैं कि हमारे आसपास आज तक जितने भी व्यापार हो रहे हैं ज्यादातर व्यापार ट्रेडिंग पर ही आधारित है। चाहे वह किराने की दुकान हो, मेडिकल स्टोर हो या फिर इस तरह की अन्य सेवाएं देने वाले लोग। यह सब किसी न किसी वस्तु की ट्रेडिंग ही कर रहे हैं।

ट्रेडिंग के प्रकार (Types of Trading)

Mobile Phone, Smartphone, Stock Exchange

शेयर बाजार में प्रमुख रूप से तीन प्रकार के ट्रेडिंग करते हैं। ट्रेडिंग करने वाली ट्रेडर अपने मुनाफे को बढ़ाने के लिए अपनी सुविधा अनुसार शेयर की ट्रेडिंग करते हैं जो प्रमुख रूप से तीन प्रकार की होती है

  • Intraday Trading एक दिवसीय 
  • Scalping Trading
  • Swing trading

Intraday Trading –

जो ट्रेडिंग शेयर बाजार के खुलने से लेकर उसके बंद होने के पहले तक शेयर को खरीदने या बेचने का काम किया जाता है उसे इंट्रा डे (Intraday Trading) ट्रेडिंग कहते हैं।

Scalping Trading –

यह भी शेयर मार्केट के खुलने और उसके बंद होने के दौरान ही की जाती है। लेकिन यहां पूरे दिन नहीं होती है। ज्यादातर इस ट्रेडिंग के दौरान लोग ज्यादा से ज्यादा पैसा कुछ ही मिनट या घंटे में लगाते हैं और निकालते हैं। आसान भाषा में हम कह सकते हैं कि कुछ ही मिनट एक कुछ घंटे के लिए ही यह ट्रेडिंग की जाती है। जैसे 10:15 पर शेयर को खरीद कर  11:05 पर उस शेयर को बेचकर मुनाफा कमा ले तो यह स्कल्पिन ट्रेडिंग (Scalping Trading) कहलाती है।

Swing Trading – 

ऊपर के दोनों ट्रेडिंग से यह काफी अलग होती है। यह कुछ दिन से लेकर कुछ हफ्ते तक के लिए की जाती है। लेकिन इसमें भी शेयर को खरीदने और बेचने का काम शेयर मार्केट के खुलने और बंद होने के दौरान ही किया जाता है। इसमे swing trader शेयर मार्केट में बेहद कम दाम पर शेयर को खरीद लेते हैं और उन्हें कुछ समय के लिए होल्ड करके रखे रहते हैं। उसके बाद कुछ समय बाद जब शेयर की प्राइस बढ़ने लगती है तब मुनाफा कमाने के लिए वे उसे बेच देते हैं।

हम आशा करते हैं कि ट्रेडिंग क्या है और यह कितने प्रकार की होती है? यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। आप इसे अपने दोस्तों और परिवार के लोगों के साथ शेयर कर सकते हैं। आपके मन में ट्रेडिंग से जुड़े यदि कोई भी सवाल है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं। हम पूरी कोशिश करेंगे और के सभी सवालों का जवाब देने की।

Archana Yadav

मुझे नए नए टॉपिक्स में लेख लिखना पसंद हें, मेरे लेख पढ़ने के लिए शुक्रिया आपको केसा लगा कॉमेंट करके ज़रूर बताए.

Related Articles

Back to top button