शेयर मार्केट

आइए जानते हैं फ्यूचर और ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है?

What is Option and Future Trading in Hindi

फ्यूचर और ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है? | What is Option and Future Trading in Hindi :

दुनिया भर के शेयर बाजारों में वस्तुओं की कीमतों में उतार-चढ़ाव की वजह से शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव देखने को मिलता है। चाहे वह कोई स्टॉक हो, कृषि से संबंधित उत्पाद हो, पेट्रोल की कीमतों में उछाल आना और गिरावट होना आदि ये सब एक आम बात मानी जाती है। कीमत  अस्थिरता के वजह से मांग और आपूर्ति में असंतुलन की स्थिति, जंग, राजनीतिक घटनाक्रम जैसी चीजें शामिल होती है। कीमतों में अस्थिरता के कारण सबसे बड़ी समस्या निवेशकों के सामने होती है। ऐसे में फ्यूचर और ऑप्शन ट्रेडिंग के माध्यम से बाजार में उतार-चढ़ाव के जोखिम को कम किया जा सकता है।

फ्यूचर ट्रेडिंग क्या है? (What is Future Trading in Hindi?)

फ्यूचर ट्रेडिंग (Future Trading) एक पहले से निर्धारित समय पर एक निश्चित मूल्य पर किसी भी परिसंपत्ति (Assets) को खरीदने या बेचने के लिए अनुबंध करना होता है। यदि कोई फ्यूचर कांट्रैक्ट खरीदता है तो इसका मतलब है कि वह किसी निश्चित समय पर उस वस्तु की कीमत पर भुगतान करने का वादा कर रहा है। यदि आप फ्यूचर कांट्रैक्ट को बेचते हैं तो खरीदार को किसी विशेष समय पर एक निश्चित कीमत पर परिसंपत्ति का हस्तांतरण करने का वादा करते हैं।

उदाहरण के लिए मान लीजिए आप X कंपनी के 100 शेयर को ₹100 प्रति शेयर की कीमत से फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट (future contract) के लिए एक निश्चित तिथि निर्धारित करते हैं। कुछ समय बाद आपको पता चलता है कि फ्यूचर कांट्रैक्ट खत्म होने से पहले कंपनी X के शेयर के भाव ₹110 तक बढ़ गए हैं। लेकिन आपके लिए शेयर का भाव अब भी ₹100 प्रति शेयर रहेगा। फलस्वरुप आपको शेयर पर कुल ₹1000 का मुनाफा होगा। हालांकि शेयर के भाव गिर भी सकते हैं। यदि शेयर के भाव गिरकर ₹90 प्रति शेयर हो जाते हैं तो आपको 100 शेयर पर ₹1000 का नुकसान झेलना पड़ेगा। अतः हम कह सकते हैं कि फ्यूचर कांट्रैक्ट से एक क्रेता तभी मुनाफा कमा पाता है जब उसे इस बात की संभावना नजर आएगी शेयर के भाव बढ़ने वाले हैं। शेयर की कीमत नीचे जाने पर विक्रेता को फायदा होता है।

 ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है (What is Option Trading in Hindi?) –

ऑप्शन ट्रेडिंग (Option Trading) के अंतर्गत साधन (assets) के धारक को पूर्व निर्धारित मूल्य पर किसी परिसंपत्ति को खरीदने या बेचने का अधिकार प्राप्त होता है। बीमा के रूप में प्रयोग किए जाने वाले ऑप्शन को सीमित समय के लिए खरीदने या बेचने के अधिकार प्रदान करके किसी निश्चित समय पर निश्चित मूल्य पर होता है। इससे वस्तु के मूल्य में उतार-चढ़ाव के जोखिम से सुरक्षा मिलती है। ऑप्शन प्रमुख रूप से दो प्रकार के होते हैं – 

  • कॉल ऑप्शन (call option)

  • पुट ऑप्शन (put option) 

कॉल ऑप्शन में एक खरीददार को एक दी हुई कीमत पर किसी पर संपत्ति को खरीदने का अधिकार मिलता है।

पुट ऑप्शन में खरीदार को के दी हुई कीमत पर संपत्ति को बेचने का अधिकार मिलता है।

यह भी जाने : आईये जानते है पेपर ट्रेडिंग क्या है? पेपर ट्रेडिंग कैसे करें

 

Archana Yadav

मुझे नए नए टॉपिक्स में लेख लिखना पसंद हें, मेरे लेख पढ़ने के लिए शुक्रिया आपको केसा लगा कॉमेंट करके ज़रूर बताए.

Related Articles

Back to top button